बुधवार, 15 जुलाई 2015

Ashwini Singh, अनूप भार्गव, कहानी मंच का प्रारम्भ



Ashwini Singh
स्वागत.... गोरे और काले अंग्रेजों के बीच के तालमेल को समझने के लिए निम्न लिंक को क्लिक कर पुस्तक पढ़े। साथ जाने अंग्रेजी का बच्चों के सीखने की क्षमता पर प्रभाव ।.. और किस प्रकार अंग्रेजी मानसिक गुलामी के मकड़जाल में फसाये रखती है। इस पुस्तक में यह भी स्पष्ट किया है कि किस प्रकार सुप्रीमकोर्ट का भाषा माध्यम कुकर्मुतो की तरह गली-गली में खुलते अधकचरे अंग्रेजी माध्यम स्कूलों का कारक है । जब तक ऊपर की व्यवस्था नहीं बदलेगी तब तक नीचे के स्तर पर कोई सुुधार नहीं आयेगा । अपने बच्चों को एलिट स्कूल में पढ़ाने वाले शिक्षाविद् कॉमन स्कूल सिस्टम की मांग करेगे और जनता अधकचरे इंग्लिश मीडियम स्कूलों में अपने बच्चों को ठूसेगें पर विवस है । स्पष्ट है ये व्यवस्था का बोझ है जो सृजनात्मक चिंतन में बाधा बना हुआ है । .. .............‘इंग्लिश मीडियम सिस्टम’, दैट इज़ ‘अंग्रेजी राज’: भ्रष्टाचार, शोषण, गैरबराबरी की व्यवस्था पर ‘साँस्कृतिक ठप्पा’ पुस्तक का प्रॉपर वर्जन निम्न लिंक से डाउनलोड करे....एवं दूसरों के साथ शेयर भी करे...
https://www.facebook.com/EMSTISAR
https://www.facebook.com/groups/Aspirants2013
https://www.sendspace.com/file/ewlffi





कहानी मंच का प्रारम्भ

हाल ही में रट्गर्स विश्वविद्यालय में हुए 'दूसरे अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन' के दौरान यह महसूस किया गया कि ’कहानी की विधा को आगे बढ़ाने, एक दूसरे के साथ कहानी साझा करने, उस पर चर्चा और एक दूसरे से सीखने के लिये एक सक्रिय मंच की आवश्यकता है । ’कहानी मंच’ इसी दिशा में एक प्रयास है । इस प्रयास में हमें अभी तक डा. सुष्म बेदी और भारतीय विद्या भवन की ओर से  डा. नवीन मेहता और श्री दीपक दवे जी का सहयोग प्राप्त हो चुका है । कहानी मंच डा. सुष्म बेदी जी के संचालन और निर्देशन में शुरु होगा । अनूप भार्गव तकनीकी सहायता देंगे।

संक्षेप में कहानी समूह इस तरह से कार्य करेगा :

1.      कहानी में रुचि रखने वाले सभी लोग चाहे वह कहानी लिखते हों या नहीं , इस के सदस्य हो सकते हैं

2.      हम सप्ताह में एक चुने हुए कहानीकार की कहानी ’शब्द’ (Text) और ’आवाज़’ (Voice) दोनों के माध्यम से पूरे समूह को ईमेल के द्वारा भेजेंगे। कहानी को अपनी आवाज़ में रिकौर्ड करना काफ़ी सरल हो गया है । हम इस में आप की मदद करेंगे ।

3.      सभी सदस्य उस कहानी पर टिप्पाणियां, सुझाव आदि ईमेल के माध्यम से सभी सदस्यों को भेज सकेंगे ।

4.      हम लगभग तीन माह में एक बार ’भारतीय विद्या भवन’ न्यूयार्क के प्रागंण में प्रत्यक्ष रूप से मिलेंगे । इस सभा में कुछ चुनी हुई कहानियों का पाठ हो सकता है लेकिन अधिकांश समय पिछले महिनों में भेजी गई कहानियों पर चर्चा होगी । सदस्यों से अपेक्षा होगी कि वह तब तक उन कहानियों को पढ़ या सुन चुके होंगे।

5.      स्वाभाविक है कि न्यू यार्क में होने वाली सभा में आस पास के राज्य के सदस्य ही सम्मिलित हो पायेंगे । हमारी पूरी कोशिश होगी कि ’इटरनेट’ के माध्यम से विश्व के सभी भागों में कहानी में रुचि रखने वाले व्यक्तियों को इस प्रयास में Skype या Google Hangout के माध्यम से जोड़ सकें ।

6.      हमारा प्रयत्न होगा कि इस ’कहानी मंच’ पर भेजी गई चुनी हुई कहानियों का संकलन के रूप में प्रकाशन भी हो ।

7.      सप्ताह में कितनी कहानियां भेजी जायेंगी और हम कितने माह में प्रत्यक्ष रूप से मिलेंगे, यह अभी अनिश्चित सा है । सदस्यों की सक्रियता, उन की ऊर्जा और समय दे पाने की क्षमता को देखते हुए इस आवृत्ति पर पुनर्विचार किया जायेगा । 

अगले २-३ दिन में आप को इस मंच से जुड़ने का निमंत्रण भेजा जायेगा । यदि आप इस ईमेल पते की जगह किसी और ईमेल पते का प्रयोग करना चाहें तो मुझे लिखें । 
आप के सुझावों और सहयोग का स्वागत रहेगा । सभी के लिये सादर स्नेह के साथ ..
अनूप भार्गव
. मेरी भाषा और वर्तनी की अशुद्धियों के लिये अग्रिम माफ़ी स्वीकार करें 
Anoop Bhargava
732-407-5788 (Cell),  609-275-1968 (Home)
 I feel like I'm diagonally parked in a parallel universe. 
 
Visit my Hindi Poetry Blog at   http://anoopbhargava.blogspot.com/
Visit Ocean of Poetry        at   htttp://kavitakosh.org/

विजय कुमार मल्होत्रा ,पूर्व निदेशक (राजभाषा),रेल मंत्रालय,भारत सरकार
Vijay K Malhotra,Former Director (OL),Ministry of Railways,Govt. of India, Mobile:91-9910029919

वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुंबई की और से कहानी मंच को हार्दिक शुभकामनाएँ ।
विश्व वात्सल्य मंच, हैदराबाद की ओर से कहानी मंचको हार्दिक शुभकामनाएँ 

प्रस्तुत कर्त्ता
संपत देवी मुरारका
अध्यक्षा, विश्व वात्सल्य मंच
लेखिका यात्रा विवरण
मीडिया प्रभारी
हैदराबाद

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें