बुधवार, 19 अगस्त 2015

कादम्बिनी क्लब की मासिक गोष्ठी आयोजित दि. 16-8-2015







कादम्बिनी क्लब की मासिक गोष्ठी आयोजित

कादम्बिनी क्लब हैदराबाद के तत्वावधान में रविवार दि.16 अगस्त को हिंदी प्रचार सभा परिसर (नामपल्ली) में क्लब की मासिक गोष्ठी का सफल आयोजन हुआ |

क्लब अध्यक्षा डॉ.अहिल्या मिश्र एवं कार्यकारी संयोजिका मीना मूथा ने प्रेस विज्ञप्ति में आगे बताया कि इस अवसर पर डॉ.सीता मिश्र (अध्यक्ष), डॉ.प्रतिभा गुप्ता ‘माही’ (मुख्य अतिथि), श्रीमती सुकना साध एवं अवनीश दुबे (विशेष अतिथि), डॉ.अहिल्या मिश्र (क्लब अध्यक्षा) मंचासीन हुए | प्रथम सत्र में डॉ.रमा द्विवेदी ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की | गोष्ठी का संचालन करते हुए डॉ.मिश्र ने क्लब का परिचय एवं गतिविधियों को रखा | डॉ. रमा ने मुख्य अतिथि का परिचय दिया एवं क्लब की ओर से उनका सम्मान किया गया, जिसमें संपत देवी मुरारका एवं सरिता सुराणा जैन ने सहयोग प्रदान किया | इस अवसर पर डॉ.प्रतिभा की कृति ‘चंदा मामा आओ ना’ बालसाहित्य पर आधारित पुस्तक का लोकार्पण मंचासीन अतिथियों के कर-कमलों से किया गया तथा बालसाहित्य की आवश्यकता पर बात की गई |

तत्त्पश्चात देशभक्ति एवं सावन की बरसात विषयों को केंद्रित करते हुए भंवरलाल उपाध्याय के संचालन में कविगोष्टि का आयोजन हुआ, जिसमें जी भरकर कवियों ने रचनापाठ किया | डॉ.प्रतिभा ने कुछ इस तरह पंक्तियाँ कहीं-सबकुछ उथल-पुथल होगा, आज नहीं तो कल होगा | फरियादी बनकर तो देख, हर मुसीबत का हल होगा || निगाहें बचाकर निहारा तो होगा, खेल कितनी खिलाती है जिंदगी | पंक्तियों से सभी की वाहवाही लूटी | जुगल बंग जुगल, सविता सोनी, शिवकुमार तिवारी कोहीर, भावना पुरोहित, संपत देवी मुरारका, अवधेश कुमार सिन्हा, विद्याप्रकाश कुरील, प्रवीण प्रणव, डॉ.रमा द्विवेदी,  राममंगल राय, शशि साध, सौम्या दुबे, श्रेया दुबे, नमिता दुबे, अवनीश दुबे, नीरज त्रिपाठी, संतोष ‘रजा’ सरिता सुराणा जैन, देवीदास घोडके, आशीष नैथानी, दर्शन सिहं, सुकना साध, डॉ.सीता मिश्र, रितेश साध, डॉ.अहिल्या मिश्र ने काव्यपाठ किया | बी.के.मिश्र, मधुकर मिश्र, वी.वरलक्ष्मी भी इस अवसर पर उपस्थित थे | नीरज त्रिपाठी के धन्यवाद के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ |

प्रस्तुति:संपत देवी मुरारका 

संपत देवी मुरारका
अध्यक्षा विश्व वात्सल्य मंच
लेखिका यात्रा विवरण
मीडिया प्रभारी
हैदराबाद

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें