रविवार, 17 जनवरी 2016

प्रेमचंद अग्रवाल, अंबाला, हरियाणा द्वारा राष्ट्रहित और राष्ट्र की भाषाओं के हित में उठाए गए प्रश्न !


प्रेमचंद अग्रवाल, अंबाला, हरियाणा द्वारा 
राष्ट्रहित और राष्ट्र की भाषाओं के हित में उठाए गए प्रश्न !
---------- अग्रेषित संदेश ----------
प्रेषक: "Prem Aggarwal" <94.pre...@gmail.com>
दिनांक: 11-12-2015 10:45 PM
विषय: फिल्मों की कास्टिंग का सम्बन्धित भाषा में लिखे जाने बारे
प्रति: <chairper...@nic.in>
Cc: <ceo....@nic.in>

अध्यक्ष,
फिल्म सैंसर बोर्ड,
नमस्कार ,
आजकल लगभग सभी हिन्दी फिल्मों में फिल्म का नाम व कास्टिंग हिन्दी में न होकर अंग्रेजी (रोमन) लिपी में की जाती है! हम यह नहीं कहते कि वह कास्टिंग अंग्रेजी में क्यों करते हैं! हमारा कहना है कि वे हिंदी में क्यों नहीं करते!
इसी प्रकार अन्य भारतीय भाषाओं की फिल्मों के लिए भी कास्टिंग सम्बन्धित भाषा में होनी चाहिए साथ में कोई चाहे तो अंग्रेजी में भी करे,  ऐसा हमारा आग्रह है!
क्यों कि आप इस फिल्म क्षेत्र की आधिकारिक संस्था है इस लिए आप से निवेदन है कि आप संबधित लोगों (फिल्म प्रडयूसर्ज व निर्देशक इत्यादि) को इस विषय मे आवश्यक निर्देश जारी करें कि हिन्दी फिल्मों की कास्टिंग हिन्दी में और अन्य भारतीय भाषाओं की फिल्मों की कास्टिंग सम्बन्धित भाषा में करें! यदि इसके साथ साथ अंग्रेजी में भी करता है तो करे! जब तक ऐसा न हो फिल्म को प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए!
धन्यवाद
प्रेम चन्द अग्रवाल
हिन्दी प्रचार - प्रसार समिति
अम्बाला शहर
09467909649
**************************************************************************************

Fwd: 
---------- अग्रेषित संदेश ----------
प्रेषक: "Prem Aggarwal" <94.pre...@gmail.com>
दिनांक: 09-12-2015 1:39 PM
विषय: केन्द्रीय सरकार की योजनाओं के नामकरण अंग्रेजी आधारित होना
प्रति: <cont...@rss.org>

आपकी जानकारी के लिये! हमारी सरकारी योजनाओं के नाम व देश में उत्पादित वस्तुओं के नामकरण अंग्रेजी भाषा में अथवा अंग्रेजी भाषा आधारित होते जा रहे हैं जो कि कोई गर्व का विषय नहीं!
परम् आदरणीय भैया जी जोशी,
नमस्कार,
श्री मान् जी बड़े पीड़ित मन से लिखना पड़ रहा है कि अपने को राष्ट्रवादी विचारधारा का मानने वालों की सरकार के कार्य कलापों में बहुत कुछ अंग्रेजी आधारित ही हो रहा है! केन्द्र सरकार की योजनाओं के नामकरण अंग्रेजी भाषा को आधार बना कर किये जा रहे हैं! इसका सबसे नया उदाहरण है रेल यात्रा के दौरान महिलाओं की सुरक्षा के लिये "R-MITRA" यानी रेलवे मोबाइल इंस्टैंट ट्रैकिंग रिस्पॉन्स एंड असिस्टेंट एप का लॉंन्च किया जाना! कांग्रेस सरकारों के कार्य काल में भी कम से कम नामों के हिन्दीकरण के प्रति सतर्कता बर्ती जाती थी! आपसे निवेदन है कि सरकार की जानकारी में ये बातें लाई जाएं! कहीं विकास की चकाचौंध में हम अपनी पहचान ही न खो बैठे!
भवदीय 
प्रेम चन्द अग्रवाल 
**************************************************************************************

Common Law Admission Test में अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म करने बारे (show original)Jan 6
देश में 16 Law Universities हैं जिनमें दाखिले के लिए CLAT की परीक्षा पास करनी पड़ती है जिसमें अंग्रेजी भाषा की अनिवार्यता है! उन 16 में से एक यूनिवर्सिटी (पटियाला) को हमने इमेल भेजकर मिलने का समय मांगा था लेकिन यूनिवर्सिटी ने कोई जवाब नहीं दिया! आपकी जानकारी के लिए हम इमेल की कापी नीचे दे रहे हैं! कृपया देखिए कि कैसे CLAT से अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म किया जा सकता है!
देश में 16 Law Universities हैं जिनमें दाखिले के लिए CLAT की परीक्षा पास करनी पड़ती है जिसमें अंग्रेजी भाषा की अनिवार्यता है! उन 16 में से एक यूनिवर्सिटी (पटियाला) को हमने इमेल भेजकर मिलने का समय मांगा था लेकिन यूनिवर्सिटी ने कोई जवाब नहीं दिया! आपकी जानकारी के लिए हम इमेल की कापी नीचे दे रहे हैं! कृपया देखिए कि कैसे CLAT से अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म किया जा सकता है!
प्रेम चन्द अग्रवाल 

The Vice Chancellor,
Rajiv Gandhi National University of Law, Punjab
Patiala,
Sir,
With due respect, we submit that we are working for the development of the Indian languages in every sphere of national life.  Education, specially the professional courses, is the most important part of it.
Sir,  to get admission in your university the students have to pass CLAT (Common Law Admission Test). In this test the medium is English only. To make the situation worse, the students are also required to answer questions meant to assess their knowledge of English language, whereas there is no test of the knowledge of any Indian language. We are of the opinion that many deserving students are being denied admission in NLUs, because they studied in the media of Indian languages according to the arrangement provided by the government.
Sir, we want to bring it to your kind notice that lawyers are allowed to do legal practice up to the level of district courts in all states in the respective Indian languages. They are allowed to do legal practice in Hindi up to the level of High Courts in the states of Rajasthan, UP, MP and Bihar.
In many states LLB education also is provided in Indian language. Even in the Central University BHU, LLB education is optionally provided in an Indian language Hindi.
On the other hand in none of the Engineering Colleges in this country is the Engineering education provided in any Indian language. Still most of the admission tests for entry into Engineering education is conducted optionally in Indian languages. Way back in 1988, the question paper on English language, was abolished in the admission test for the IITs (JEE). Since 1990 they have been providing question papers in Hindi as well. They had also allowed the students to write answers in various Indian languages since the same year 1990. It is another matter that when the pattern of JEE became multiple choice objective type then the  significance of allowing the students to write answers in various Indian languages vanished.
Many of the prestigious competitive examinations like Civil Services exam (for selection of IAS etc.), JEE (mains) for most of the Engineering colleges, JEE (Advanced) for IITs, AIPMT etc. are conducted in Indian languages. Then why  CLAT should be conducted in English medium alone ?
We request you to use your powers and influence so that
(i)  CLAT is conducted in the medium of Indian languages as well
and
(ii) either the test of English language is abolished from CLAT or it is made optional providing test on Indian languages in the option.
Kindly spare some time, any time convenient to you, for us to put our point of view in this regard.
Thanking you,
Yours Sincerely
Prem Chand Aggarwal 09467909649
Shyam Rudra Pathak
09818216384
**************************************************************************************



त्योहारों की बधाई अंग्रेजी में या रोमन में देने वासों तो भेजें यह संदेश।


वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुंबई
वेबसाइट- वैश्विकहिंदी.भारत /  www.vhindi.in
प्रेमचंद अग्रवाल, अंबाला, हरियाणा द्वारा 
राष्ट्रहित और राष्ट्र की भाषाओं के हित में उठाए गए प्रश्न !
---------- अग्रेषित संदेश ----------

प्रेषक: "Prem Aggarwal" <94.pre...@gmail.com>
दिनांक: 11-12-2015 10:45 PM
विषय: फिल्मों की कास्टिंग का सम्बन्धित भाषा में लिखे जाने बारे
प्रति: <chairper...@nic.in>
Cc: <ceo....@nic.in>

अध्यक्ष,
फिल्म सैंसर बोर्ड,
नमस्कार ,
आजकल लगभग सभी हिन्दी फिल्मों में फिल्म का नाम व कास्टिंग हिन्दी में न होकर अंग्रेजी (रोमन) लिपी में की जाती है! हम यह नहीं कहते कि वह कास्टिंग अंग्रेजी में क्यों करते हैं! हमारा कहना है कि वे हिंदी में क्यों नहीं करते!
इसी प्रकार अन्य भारतीय भाषाओं की फिल्मों के लिए भी कास्टिंग सम्बन्धित भाषा में होनी चाहिए साथ में कोई चाहे तो अंग्रेजी में भी करे,  ऐसा हमारा आग्रह है!
क्यों कि आप इस फिल्म क्षेत्र की आधिकारिक संस्था है इस लिए आप से निवेदन है कि आप संबधित लोगों (फिल्म प्रडयूसर्ज व निर्देशक इत्यादि) को इस विषय मे आवश्यक निर्देश जारी करें कि हिन्दी फिल्मों की कास्टिंग हिन्दी में और अन्य भारतीय भाषाओं की फिल्मों की कास्टिंग सम्बन्धित भाषा में करें! यदि इसके साथ साथ अंग्रेजी में भी करता है तो करे! जब तक ऐसा न हो फिल्म को प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए!
धन्यवाद
प्रेम चन्द अग्रवाल
हिन्दी प्रचार - प्रसार समिति
अम्बाला शहर
09467909649
**************************************************************************************

Fwd: 
---------- अग्रेषित संदेश ----------
प्रेषक: "Prem Aggarwal" <94.pre...@gmail.com>
दिनांक: 09-12-2015 1:39 PM
विषय: केन्द्रीय सरकार की योजनाओं के नामकरण अंग्रेजी आधारित होना
प्रति: <cont...@rss.org>

आपकी जानकारी के लिये! हमारी सरकारी योजनाओं के नाम व देश में उत्पादित वस्तुओं के नामकरण अंग्रेजी भाषा में अथवा अंग्रेजी भाषा आधारित होते जा रहे हैं जो कि कोई गर्व का विषय नहीं!
परम् आदरणीय भैया जी जोशी,
नमस्कार,
श्री मान् जी बड़े पीड़ित मन से लिखना पड़ रहा है कि अपने को राष्ट्रवादी विचारधारा का मानने वालों की सरकार के कार्य कलापों में बहुत कुछ अंग्रेजी आधारित ही हो रहा है! केन्द्र सरकार की योजनाओं के नामकरण अंग्रेजी भाषा को आधार बना कर किये जा रहे हैं! इसका सबसे नया उदाहरण है रेल यात्रा के दौरान महिलाओं की सुरक्षा के लिये "R-MITRA" यानी रेलवे मोबाइल इंस्टैंट ट्रैकिंग रिस्पॉन्स एंड असिस्टेंट एप का लॉंन्च किया जाना! कांग्रेस सरकारों के कार्य काल में भी कम से कम नामों के हिन्दीकरण के प्रति सतर्कता बर्ती जाती थी! आपसे निवेदन है कि सरकार की जानकारी में ये बातें लाई जाएं! कहीं विकास की चकाचौंध में हम अपनी पहचान ही न खो बैठे!
भवदीय 
प्रेम चन्द अग्रवाल 
**************************************************************************************

Common Law Admission Test में अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म करने बारे (show original)Jan 6
देश में 16 Law Universities हैं जिनमें दाखिले के लिए CLAT की परीक्षा पास करनी पड़ती है जिसमें अंग्रेजी भाषा की अनिवार्यता है! उन 16 में से एक यूनिवर्सिटी (पटियाला) को हमने इमेल भेजकर मिलने का समय मांगा था लेकिन यूनिवर्सिटी ने कोई जवाब नहीं दिया! आपकी जानकारी के लिए हम इमेल की कापी नीचे दे रहे हैं! कृपया देखिए कि कैसे CLAT से अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म किया जा सकता है!
देश में 16 Law Universities हैं जिनमें दाखिले के लिए CLAT की परीक्षा पास करनी पड़ती है जिसमें अंग्रेजी भाषा की अनिवार्यता है! उन 16 में से एक यूनिवर्सिटी (पटियाला) को हमने इमेल भेजकर मिलने का समय मांगा था लेकिन यूनिवर्सिटी ने कोई जवाब नहीं दिया! आपकी जानकारी के लिए हम इमेल की कापी नीचे दे रहे हैं! कृपया देखिए कि कैसे CLAT से अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म किया जा सकता है!
प्रेम चन्द अग्रवाल 

The Vice Chancellor,
Rajiv Gandhi National University of Law, Punjab
Patiala,
Sir,
With due respect, we submit that we are working for the development of the Indian languages in every sphere of national life.  Education, specially the professional courses, is the most important part of it.
Sir,  to get admission in your university the students have to pass CLAT (Common Law Admission Test). In this test the medium is English only. To make the situation worse, the students are also required to answer questions meant to assess their knowledge of English language, whereas there is no test of the knowledge of any Indian language. We are of the opinion that many deserving students are being denied admission in NLUs, because they studied in the media of Indian languages according to the arrangement provided by the government.
Sir, we want to bring it to your kind notice that lawyers are allowed to do legal practice up to the level of district courts in all states in the respective Indian languages. They are allowed to do legal practice in Hindi up to the level of High Courts in the states of Rajasthan, UP, MP and Bihar.
In many states LLB education also is provided in Indian language. Even in the Central University BHU, LLB education is optionally provided in an Indian language Hindi.
On the other hand in none of the Engineering Colleges in this country is the Engineering education provided in any Indian language. Still most of the admission tests for entry into Engineering education is conducted optionally in Indian languages. Way back in 1988, the question paper on English language, was abolished in the admission test for the IITs (JEE). Since 1990 they have been providing question papers in Hindi as well. They had also allowed the students to write answers in various Indian languages since the same year 1990. It is another matter that when the pattern of JEE became multiple choice objective type then the  significance of allowing the students to write answers in various Indian languages vanished.
Many of the prestigious competitive examinations like Civil Services exam (for selection of IAS etc.), JEE (mains) for most of the Engineering colleges, JEE (Advanced) for IITs, AIPMT etc. are conducted in Indian languages. Then why  CLAT should be conducted in English medium alone ?
We request you to use your powers and influence so that
(i)  CLAT is conducted in the medium of Indian languages as well
and
(ii) either the test of English language is abolished from CLAT or it is made optional providing test on Indian languages in the option.
Kindly spare some time, any time convenient to you, for us to put our point of view in this regard.
Thanking you,
Yours Sincerely
Prem Chand Aggarwal 09467909649
Shyam Rudra Pathak
09818216384
**************************************************************************************



त्योहारों की बधाई अंग्रेजी में या रोमन में देने वासों तो भेजें यह संदेश।


वैश्विक हिंदी सम्मेलन, मुंबई
वेबसाइट- वैश्विकहिंदी.भारत /  www.vhindi.in
प्रस्तुत कर्त्ता
संपत देवी मुरारका
अध्यक्षा, विश्व वात्सल्य मंच
लेखिका यात्रा विवरण
मीडिया प्रभारी
हैदराबाद

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें