गुरुवार, 15 अगस्त 2013

“ऑथर्स गिल्ड ऑफ इण्डिया का 38 वां अधिवेशन संपन्न”








ऑथर्स गिल्ड ऑफ इण्डिया का 38 वां अधिवेशन संपन्न

ऑथर्स गिल्ड ऑफ इण्डिया के सभी चैप्टरों सहित केन्द्रीय कार्यकारिणी का 38 वां द्वि दिवसीय अधिवेशन 5-6 जनवरी 2013 को चेन्नई के वर्ल्ड यूनिवर्सिटी सेंटर 8, मायोर रामनाथन सलाई में संपन्न हुआ | इसमें लेखक, पाठक एवं समकालीन समाजविषय पर संगोष्ठी तथा काव्य संध्या संपन्न हुई |

उद्घाटन समारोह में मिजोरम के पूर्व राज्यपाल एवं AGI के पूर्व अध्यक्ष डॉ.ए. पद्मनाभन मुख्य अतिथि, उच्च न्यायालय मद्रास के न्यायाधीश श्रीमान तमिलवनन कार्यक्रम के उद्घाटनकर्त्ता, महामंत्री AGI शिवशंकर अवस्थी, डॉ.अम्मीय नटराजन, डॉ.सरोजिनी प्रीतम तथा हिंदी अकादमी मद्रास की अध्यक्षा एवं कार्यक्रम समन्वयक डॉ.मधु धवन तथा मद्रास चैप्टर के संयोजक पी.के. बालासुब्रमन्यम मंचासीन हुए | श्री शिवशंकर अवस्थी के सभी चैप्टरों से पधारे सदस्यगणों का स्वागत करते हुए ऑथर्स गिल्ड ऑफ इण्डिया के कार्य व्यवहार का संक्षिप्त प्रतिवेदन प्रस्तुत किया |

इस अवसर पर डॉ.अहिल्या मिश्र का नवीन निबंध संग्रह ‘आधुनिकता के आईने में ---स्त्री संघर्ष’ का विमोचन डॉ.ए.पद्मनाभन पूर्व राज्यपाल मिजोरम एवं श्रीमान तमिलवनन न्यायाधीश मद्रास हाईकोर्ट के कर कमलों से संपन्न हुआ | इसके साथ ही अन्य कई पुस्तकों के साथ स्व.श्री राजेन्द्र अवस्थी का उपन्यास भी लोकार्पित किया गया |

संगोष्ठी के प्रथम सत्र में पद्मश्री श्याम सिंह ‘शशि’ की अध्यक्षता एवं हैदराबाद चैप्टर AGI की संयोजिका डॉ.अहिल्या मिश्र के संचालन में क्रमश: कार्तिकेयन, रघुनन्दन प्रसाद तिवारी, सुजीत बाजपेयी, नरेंद्र परिहार, के.पशुपति एवं डॉ.अहिल्या मिश्र ने आलेख प्रस्तुत किए | दुसरे एवं तीसरे सत्र में भी गोवा चैप्टर एवं आगरा चैप्टर, के साथ श्री लक्ष्मीनारायण अग्रवाल, रमा द्विवेदी एवं संपत देवी मुरारका हैदराबाद ने लेखक, पाठक एवं समकालीन समाज से जुड़े विषयों पर पत्र प्रस्तुत किए |

सायंकालीन कवि सम्मेलन में डॉ.सरोजिनी प्रीतम (नई दिल्ली) एवं डॉ.अहिल्या मिश्र (हैदराबाद) के संयुक्त संचालन में डॉ.मधु धवन (चेन्नई) की अध्यक्षता में चेन्नई के डॉ.सेतुरामन तथा कोवई (मद्रास) के दूरदर्शन की प्रोग्राम एजक्युटीव श्रीमती अंडाल प्रियदर्शिनी तथा पी.के.बाला सुब्रमण्यम अतिथि के रूप में मंचासीन हुए | हैदराबाद चैप्टर के सर्वश्री दुर्गादत्त पाण्डेय, विनीता शर्मा, ज्योति नारायण, डॉ.सीता मिश्र, डॉ.राजकुमारी सिंह, डॉ.रमा द्विवेदी, नीरज त्रिपाठी, तनुजा व्यास, पवित्रा अग्रवाल, संपत देवी मुरारका, एलिजाबेथ कुरियन ‘मोना’ एवं लक्ष्मीनारायण अग्रवाल के साथ सभी चैप्टरों के करीब 45 लोगों ने हिंदी व भारत की विभिन्न भाषाओं में काव्यपाठ किया |

चौथे सत्र में नागपुर चैप्टर के संचालक के मंच संचालन में मुज्जफर नगर, केरल आदि के विद्वानों ने पत्र प्रस्तुत किए | समापन समारोह में मुख्य अतिथि डॉ.पोनाविको (वाइस चांसलर एस.आर.एम.विश्व विद्यालय चेन्नई), सम्मानीय अतिथि डॉ.मुथुवेले (रजिस्टार सेंट्रल इंस्टिट्युट ऑफ क्लासिकल तामिल) तथा प्रो.दिलीप सिंह (रजिस्टार डी.बी.हिंदी प्रचार सभा) गौरवनीय अतिथि के रूप में मंचासीन हुए | कार्यक्रम का संचालन डॉ.शिवशंकर अवस्थी सेक्रेटरी जनरल AGI ने किया | डॉ.सरोजिनी प्रीतम के धन्यवाद से कार्यक्रम संपन्न हुआ | इसमें देश भर के सभी चैप्टरों से लगभग 120 सदस्यों ने अपनी सहभागिता निभाया | सम्पूर्ण देश को जोड़ने वाला यह लेखकों का संगठन विशेष तौर पर सामाजिक परिस्थितियों पर लेखकीय एवं पाठकीय दायित्व पर दो दिनों तक चिंतन एवं मनन के साथ आत्म-मंथन में लीन रहा | कई प्रस्ताव भी पारित हुए |

संपत देवी मुरारका
लेखिका यात्रा विवरण

मीडिया प्रभारी एवं आ.सदस्य AGI 
हैदराबाद  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें