शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

“कादम्बिनी क्लब की 250 वीं गोष्ठी संपन्न”



 कादम्बिनी क्लब की 250 वीं गोष्ठी संपन्न
 
 
कादम्बिनी क्लब हैदराबाद के तत्वावधान में रविवार दि.16  जून को हिंदी प्रचार सभा परिसर में क्लब की 25o वीं मासिक गोष्ठी का सफल आयोजन संपन्न हुआ कार्यक्रम की  अध्यक्षता प्रो. शुभदा वांजपे (चेअरमन-बोर्ड ऑफ स्टडीज उ.वि.वि.है.) ने की |

 क्लब संयोजिका अहिल्या मिश्र एवं कार्यकारी संयोजिका मीना मूथा ने संयुक्त प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि इस अवसर पर प्रो. अश्विनी कुमार शुक्ला (पं. जवाहरलाल नेहरू महा विद्यालय में हिंदी विभागाध्यक्ष बुंदेलखंड-बांदा) मुख्य अतिथिडॉ. सीता मिश्रा विशेष अतिथिप्रो. शुभदा वांजपे अध्यक्ष एवं प्रमुख वक्ता तथा डॉ. अहिल्या मिश्र (क्लब संयोजिका) मंचासीन हुए प्रथम सत्र का संचालन करते हुए मीना मूथा ने कहा कि क्लब जून 2013को अपने 20 वें वर्ष की यात्रा में प्रवेश कर चुका है तथा यह गोष्ठी इस वर्ष की आरंभिक गोष्ठी है सहसंयोजक ज्योति नारायण ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की डॉ. मिश्र ने मंचासीन अतिथियों का परिचय एवं क्लब की संक्षिप्त जानकारी देते हुए विभिन्न गतिविधियों पर प्रकाश डाला |

प्रो. शुभदा वांजपे ने अकविता-रचनात्मक दृष्टि’ विषय पर प्रपत्र प्रस्तुति में कहा कि नई कविता के बाद 1964 में एक नया ट्रेंड आया जिसे अकविता कहा गया यह विशिष्ट राजनीतिक और समसामयिक परिवेश में प्रेरित रही कभी उसे Non Poetry  और Anty Poetry भी कहा गया अकविता में युगीन परिवेश और मानसिकता को उभारकर लाया गया अकवितावादी एवं आलोचक श्याम परिमार की दृष्टि में अकविता’ कविता विरोधी शब्द नहीं रहा है मोना गुलाटीसौमित्र मोहनलुकमान अली के काव्यांश प्रस्तुतीकरण में शुभादाजी ने आगे कहा कि समग्रत: अब कविता किसी भी विषय पर लिखी जा सकती है आज अकविता की प्रवृत्तियाँ जिनमें निषेधविडंबना,कुंठा आदि का वर्णन है और उसी रूप में वह अपने आप को नया साबित करती है डॉ. सीता मिश्र ने कहा कि शुभदा ने सन 64 के बाद का कर आए अद्वितीय परिवर्तन को बहुत अच्छी तरह समझाया है प्रो. शुक्ला ने नई कविता पर विचार रखते हुए कहा कि जीवन की उलझनों को सुलझाने का सूत्र कविता देती है पं. भवानीप्रसाद मिश्रमुक्तिबोधमहादेवी वर्मा की पंक्तियों को सुनाकर शुक्ला जी ने छायावाद-प्रगतिवाद एवं 1935 से हिंदी साहित्य के इतिहास पर प्रकाश डाला कविता जीवन है और जीवन कविता हैजीवन में संकट आते हैं जिसमें कविता ऐसी डगर बताती है जहां आदमी फिर आशावादी बनता है |

तत्पश्चात क्लब की ओर से प्रो. शुक्ला का अंगवस्त्र एवं पुष्पक भेंट कर सम्मान किया गया श्री लक्ष्मीनारायण अग्रवाल की अध्यक्षता तथा भंवरलाल उपाध्याय के सुन्दर संचालन में कविगोष्ठी संपन्न हुई इसमें शिव कुमार तिवारीसंपत देवी मुरारकाब्रजमोहन चौहानज्योति नारायणपुरुषोत्तम कडेलपवित्रा अग्रवालशुषमा बैदडॉ. अहिल्या मिश्रमीना मूथासरिता गर्गदिलीप सिंहदर्शन सिंहसरिता सुराणा जैनएल.रंजनाडॉ. मदन देवी पोकरणामदनलाल मरलेचाडॉ.सीता मिश्रावी. वरलक्ष्मीजुगल बंग जुगलगोविन्द मिश्रप्रो. शुक्ला ने काव्यपाठ किया श्री अग्रवाल ने अध्यक्षीय पाठ किया आकाश शुक्लाआकांक्षा शुक्लारेखा शुक्लाएस. सुजाता,निर्मल बैदअजीत गुप्ताभूपेन्द्र मिश्र भी इस अवसर पर उपस्थित थे सरिता सुराणा जैन के धन्यवाद के साथ गोष्ठी का समापन हुआ |

संपत देवी मुरारका
लेखिका यात्रा विवरण
मीडिया प्रभारी
हैदराबाद
   
 
 
 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें