सोमवार, 9 जनवरी 2012

भारतीय गौवंश रक्षण संबर्धन परिषद आं.प्र.द्वारा द्विदिवसीय अखिल भारतीय संगोष्ठी आयोजित


भारतीय गौवंश रक्षण संबर्धन परिषद आं.प्र.द्वारा    द्विदिवसीय अखिल भारतीय संगोष्ठी आयोजित








 भारतीय गौवंश रक्षण संबर्धन परिषद आं.प्र.द्वारा    द्विदिवसीय अखिल भारतीय संगोष्ठी आयोजित

भारतीय गौवंश रक्षण संबर्धन परिषद, गौ हत्या एवं मांस निर्यात निरोध परिषद, अखिल भारतीय गौरक्षा आन्दोलन समिति (विश्व हिन्दू परिषद गौरक्षा विभाग) के संयुक्त तत्वावधान में आगामी शनिवार, रविवार ७-८ जनवरी २०१२ को रामकोट स्थित श्री जैन सेवा संघ भवन में सफल आयोजन किया गया |

इस अवसर पर मुख्य अतिथि प्रवीण भाई तोगड़िया (विश्व हिन्दू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष), अध्यक्ष जसराज श्री श्रीमाल (भारतीय गौवंश रक्षण संबर्धन परिषद, अध्यक्ष), जी. राघव रेड्डी (अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष), स्वामी सहदेव दास जी, हुकमचंद सांवला, भंवरलाल कोठारी, विरेन्द्र ढाकर, आर. एस. सावरेकर, डॉ. गंगा सत्यम, खेमचंद शर्मा, मंचासीन हुए |

कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन से हुआ | इस अवसर मुख्य अतिथि प्रवीण भाई तोगड़िया (विश्व हिन्दू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष) ने अपने वक्तव्य में कहा कि गौ सेवा को गौशालाओं तक सिमित न करते हुए सभी हिन्दूओं को गौरक्षा एवं संरक्षण का संकल्प लेना चाहिए | उन्होंने कहा कि वर्ष में दो बार गौरक्षा विभाग की बैठक आयोजित की जाती है, जिसमें पूर्व में किये गये कार्य का कार्यवत्त प्रस्तुत कर भविष्य में किये जाने वाले कार्य की रूप रेखा तैयार की जाती है | उन्होंने कहा कि कर्म के सिद्धांत के अनुसार, जो बुरे कर्म करता है, उसका फल उसे इस जन्म के साथ-साथ अगले जन्म में भी भोगना पड़ता है | जीव को अपने बुरे कर्मों से मुक्त होने के लिए गौसेवा ही एकमात्र मार्ग है, क्योंकि गौ की सेवा करने से सारे देवता की पूजा करने का फल प्राप्त होता है, क्योंकि इसमें 33 करोड़ देवी देवता का निवास है |

प्रवीण भाई ने कहा कि आज प्रत्येक हिन्दू को अपने घर में गाय की सेवा करने का संकल्प लेना होगा | बिना गाय के कोई घर न हो | गाय का पालन और सेवा से घर में सुख समृधि आती है, तथा पंचगव्य से आय में वृद्धि होती है | बच्चों के लिए चॉकलेट गाय के दूध से निर्मित की जायेगी तब भी आय में वृद्धि होगी | उन्होंने कहा कि घर में गाय संकर नहीं, बल्कि देशी होनी चाहिए | देशी गाय की सेवा से ही जीव के सारे कष्ट दूर होते हैं | उन्होंने कहा कि देश में गौहत्या मुसलमानों एवं ईसाइयों के प्रवेश से ही हुई, क्योंकि हिन्दू चाहे जो भी करें, लेकिन वह गौ की हत्या कभी नहीं कर सकता | आज उक्त सम्प्रदायों के कारण ही विहिप को गौहत्या एवं उसके मांस के निर्यात के लिए विरोध करना पड़ रहा है |

डॉ. तोगड़िया ने कहा कि देश में गौहत्या बंद हो, इसके लिए सभी को संकल्प लेना होगा | इसके लिए विहिप ने सक्रिय बनाई है, जिसके अभियान के अंतर्गत गाय के दूध एवं घी का उपयोग, प्रतिदिन भोजन करने से पूर्व गौ ग्रास निकालना, प्रतिदिन गाय के नाम पर एक रूपया निकालना इत्यादि प्रमुख है | उन्होंने कहा कि देश के हर जिले के ग्रामों में पंचगव्य का उपयोग करना तथा पंचगव्य से बने उत्पादों का ही उपयोग करने का सभी को संकल्प लेना होगा | पंचगव्य से बने उत्पादों के अधिकाधिक प्रयोग से देश में घर-घर में गाय की सेवा होगी उन्हें आर्थिक रूप से मजबूती मिलेगी | उन्होंने कहा कि आज सभी को गोचर की रक्षा करने का संकल्प करना होगा, क्योंकि आज विभिन्न कारणों के चलते गोचर की भूमि खत्म होती जा रही है | अभी जो भूमि बची है उसे खत्म होने से बचाना होगा | आज सभी को गोचर का संबर्धन, देशी गाय के नस्ल का बढ़ावा, गौ आधारित कृषि को प्रेरित करना होगा | उन्होंने कहा कि केवल गौशाला का निर्माण करने से गौसेवा नहीं होगी | गौशालाओं के साथ-साथ गाय को संरक्षण देना और उसे घर-घर में पालने की जरुरत है | गौरक्षा के लिए जनता को प्रेरणा देने के लिए आगामी वर्ष से भारत वर्ष में गौ विज्ञान परीक्षा का आयोजन किया जायेगा, ताकि स्कूल में बच्चों को गौ रक्षा की सेवा की जा सके | सभी इसमें सक्रिय रूप से भूमिका बनाकर इस दिशा में कार्य करें | अंत में उन्होंने कहा कि गौरक्षा के लिए सड़कों पर यदि आन्दोलन करना पड़ा तो भी आगे आयें | गायों को कसाइयों के हाथों से बचाएँ |

अवसर पर विहिप के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष जी. राघव रेड्डी ने कहा कि आज गौ सेवा के लिए युवाओं को आगे आने की जरुरत है | युवा वर्ग ही पंचगव्य से बने उत्पादों को मार्केटिंग के लिए आगे आकर कार्य कर सकते हैं | उन्होंने बताया कि उनकी माता के नाम पर इब्राहिमपट्टनम में गौशाला चल रही है और मेडचल में भी एक गौशाला शुरू की जायेगी |

कार्यक्रम में स्वागत भाषण में अध्यक्ष जसराज श्रीश्रीमाल ने कहा कि गौ रक्षा के लिए हैदराबाद में गत 21 वर्ष पूर्व अल-कबीर को बंद करवाने का आन्दोलन आरम्भ हुआ था, जिसका प्रभाव देश के अन्य राज्यों में भी पड़ा | अल-कबीर को बंद करने के लिए सभी को सक्रिय रूप से कार्य करना होगा और गुजरात तथा राजस्थान में जिस प्रकार गाय की हत्या पर कानून बने हैं, वैसे ही देश के अन्य राज्यों में भी चलाये जाने की जरुरत है | उन्होंने कहा कि कर्नाटक में भी बिल पास हुआ है, लेकिन इसे राष्ट्रपति की स्वीकृति नहीं मिली है | स्वीकृति मिलाने पर कर्नाटक दक्षिण भारत का पहला ऐसा राज्य होगा, जहाँ गौ हत्या पर प्रतिबंध होगा| उन्होंने कहा कि दो दिवसीय अखिल भारतीय बैठक में गौ रक्षा पर सत्र आयोजित कर भविष्य की रणनीतियाँ तैयार की जायेगी | इस अवसर पर देश के 22-23 प्रान्तों से लगभग 200 प्रतिनिधि उपस्थित थे | अवसर पर अर्चना सिंह तोमर (उ.प्र.) से पधारी थीं | श्री जैन सेवा संघ, करुणा इंटरनेशनल, इण्डिया काईन्डनेस मूवमेंट सहित अन्य संगठनों ने डॉ. प्रवीण भाई तोगड़िया, राघव रेड्डी सहित अन्यों का सम्मान किया |
संपत देवी मुरारका
हैदराबाद 

2 टिप्‍पणियां:

  1. पूर्ण रिपोर्ट समेट ली गई... चित्रों में भी॥

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद चन्द्रमौलेश्वर्जी | विलम्ब के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ | इन दिनों जवाब देने का समय ही नहीं मिला | चित्रों से ही यात्रा वृत्तांत लिखती हूँ |

    उत्तर देंहटाएं