शनिवार, 10 सितंबर 2011

उत्तर-पूर्वी यात्रा ( गीत )


उत्तर-पूर्वी यात्रा  ( गीत )
गद्य को पद्य में प्रस्तुत कर रही हूँ |
हम दोनों ननद-भावज, करने सैर चले |
वायुयान से बचे समय, गाड़ी देर चले ||                             
चैतन्य प्रभु की बनी समाधी,मायापुरी में देखी है |
जन्मस्थली रही नवद्वीप, जिस तट गंगा बहती है ||            
शिवशंकर का विशाल मंदिर ताड़केश्वर में है बना |
शिवगंगा में डुबकी लगाके, हर्ष हुआ है बहुत घना ||
दार्जिलिंग जा पहुँचे हम तो, करने सैर सपाटा |
छुक-छुक गाड़ी से उतरे हम, प्लेट फार्म को टाटा ||
प्रकृति-नटी की शान अनोखी, विस्तृत चाय-बागानों में |               
दृश्य अलौकिक सूर्योदय का, ओस चमकती धानों में ||
अब जा पहुँचे टाइगर हिल हम, सूर्योदय का दृश्य देखने |
उषा की मुस्कान सुनहरी, अरुणोदय के पल लखने ||  
स्वर्णिम हिम-आवृत शिखर |     
 गंगटोक दार्जिलिंग की राहों में फैली छटा निखर || 
तीस्ता और रंगीत का संगम, बड़ा सुहाना लगता था |
हनुमान मंदिर भी रंग-बिरंगे, फूलों से सजता था || 
सांगो झील गणेश मंदिर, फूलों के उत्सव अदभुत थे |      
दृश्य अलौकिक देखा सोचा, यह सपना या सचमुच थे || 
मौज  मनाने धूम मचाने, नेशनल पार्क में जा पहुँचे |      
नाम था काजीरंगा जू, गेंडे मोटे हाथी बड़े-बड़े देखे ||                           
तेजस्वनी उषा ने देखा, कभी एक शुभ-सपना |         
सहयोग चित्रलेखा का पा, अनिरुद्ध बनाया अपना ||     
सपन सुहाना था वो जिसमें, आया सुन्दर राजकुमार |
जिसे देख उषा रानी के, थिरक उठे थे मन के तार ||
घोर गर्जना मेघों की जो, मेघालय  नाम सार्थक होगा |   
खूब झमाझम बादल बरसें, उसका मजा अलग होगा ||  
प्यारी-प्यारी बालाएँ वो, गुड़िया जैसी दिखती थी |
शिलांग के बाजारों में तो, जापानी चीजें बिकती थी ||     
चेरापूंजी में होती है, सबसे ज्यादा बरसात |
हरे-भरे हैं बाग़-बगीचे, शीतल दिन वो ठंडी रात ||
कामख्या देवी के पूजन को, जा पहुँचे गुवाहाटी |
ठंडा-मीठा शर्बत पीये, खाए दाल वो बाटी ||
कलकत्ता की काली माता, तेरे दर्शन को आये |
पान सुपारी ध्वजा नारियल, भेंट चढाने लाये ||
मशहूर वहां का घाघरा चून्नी, और मिले सिंदूर |
खाने को रसगुल्ले सिंघाड़े, राजकचोरी भी भरपूर ||           
दृश्य निराले अदभुत सारे, सब देखे फिर लौट चले |                          
वायुयान से पहुंचे झटपट, गाड़ी से लगती देर भले ||                               
सारे अनुपम दृश्य पिरोकर, उस माला को फेर चले |                           
हम ननद और भावज दोनों की, पूरी सुन्दर सैर अरे !                                   

संपत देवी मुरारका (भाभी) "संपत"
विजयलक्ष्मी काबरा (ननद)

                         
























5 टिप्‍पणियां:

  1. रोचक काव्यात्मक संस्मरण लेखन के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. पुनश्च--
    यात्रा के कुछ चित्र भी लगा दें तो पोस्ट की दर्शनीयता बढ़ जाएगी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. यात्रा का संस्मरण लिखा आपने पद्य में है
    यह रोचक, संक्षेप और पठनीय भी है.
    आपने बहुत से स्थान देखे, संग सखी
    बधाई,आपने तो अच्छी कविता लिखी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. चंद्रमौलेश्वर जी, ऋषभदेव जी, डॉ. बी. बालाजी,
    आप सभी ने इस गीत को सराहा एतदर्थ आभारी हूँ | ऋषभदेव जी तस्वीरें सौ से भी ज्यादा हैं | कैसे लगाऊँ | मार्गदर्शन कीजिएगा |

    उत्तर देंहटाएं